नई पोस्ट करें

उपग्रह की तस्वीरों में उत्तर कोरिया के सैन्य परेड की तैयारी करने के संकेत मिले

2022-10-05 23:53:11 558

उपग्रहकीतस्वीरोंमेंउत्तरकोरियाकेसैन्यपरेडकीतैयारीकरनेकेसंकेतमिलेमारुति ने इग्निस का 2019 संस्करण पेश किया, कीमत है इसकी 4.79 लाख रुपए से शुरू******New Maruti Ignis 2019 मारुति सुजुकी इंडिया ने बुधवार को उन्‍नत सुरक्षा फीचर्स के साथ अपनी हैचबैक कार का 2019 संस्करण पेश किया। इसकी दिल्‍ली में एक्‍स-शोरूम कीमत 4.79 लाख रुपए से लेकर 7.14 लाख रुपए तक है। मारुति सुजुकी इंडिया ने अपने एक बयान में कहा कि नई इग्निस के सभी वेरिएंट्स ड्राइवर के साथ वाली सीट में सीट बेल्ट रिमाइंडर और हाई स्पीड अलर्ट प्रणाली, रिवर्स पार्किंग प्रणाली समेत अन्य खूबियों से लैस होंगे। नए सुरक्षा नियमों के तहत , इस साल एक जुलाई से बनने वाली सभी यात्री वाहनों के लिए ये सुविधाएं अनिवार्य होंगी।नए सुरक्षा नियमों के तहत यह फीचर्स इस साल 1 जुलाई के बाद से निर्मित होने वाले सभी यात्री वाहनों के लिए अनिवार्य होंगे।मारुति सुजुकी इंडिया के वरिष्ठ कार्यकारी निदेशक (विपणन एवं बिक्री) आर एस कलसी ने कहा कि यात्री सुरक्षा की दिशा में एक और कदम बढ़ाते हुए इग्निस में ज्यादा सुरक्षा फीचर्स दिए गए हैं। उन्होंने कहा कि इग्निस के जेटा और अल्फा संस्करण में अब नए रूफ रेल्स की पेशकश की जा रही है।

उपग्रहकीतस्वीरोंमेंउत्तरकोरियाकेसैन्यपरेडकीतैयारीकरनेकेसंकेतमिलेटेस्‍ला के सीईओ एलन मस्क का दावा, हर हफ्ते होगा 10,000 'मॉडल 3' कारों का उत्‍पादन******Teslaअपनी इलेक्ट्रिक कारों के लिए दुनिया भर में विख्‍यात टेस्‍ला ने अब बढ़ती मांग को देखते हुए बड़ी संख्‍या में कारों का उत्‍पादन करने का लक्ष्‍य तय किया है। मॉडल 3 कारों के बढ़ते उत्पादन से उत्साहित इलेक्ट्रिक कार निर्माता टेस्ला ने साल 2018 की दूसरी तिमाही में 4 अरब डॉलर का राजस्व प्राप्त होने की घोषणा की है। जबकि कंपनी के पास कुल 2.2 अरब डॉलर की नकदी है। बुधवार को टेस्ला के शेयरों में करीब 11 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई है। टेस्ला के मुख्य कार्यकारी अधिकारी एलन मस्क ने एक बयान में कहा, "हमें अपनी टीम पर गर्व है, जिसने जून के अंतिम हफ्ते में 7,000 मॉडल 3, मॉडल एस और मॉडल एक्स वाहनों का उत्पादन किया।"उन्होंने कहा, "हमारा कुल वाहन उत्पादन प्रति हफ्ते 7,000 वाहन, या सालाना 3,50,000 वाहन रहा। इसके बूते टेस्ला अपने इतिहास में पहली बार मुनाफा कमाने वाली कंपनी बन जाएगी, और हमें उम्मीद है कि आगे तीसरी तिमाही में भी हम अपने उत्पादन में बढ़ोतरी करते रहेंगे।"मस्क ने कहा, "मॉडल 3 की लोकप्रियता बताती है कि लोग हमारे उत्पाद को कितना पसंद कर रहे हैं और हम देख सकते हैं कि इसका बाजार मध्य खंड के प्रीमियम सेडान के बाजार से भी बड़ा है।" कंपनी ने साल की तीसरी तिमाही में 50,000-55,000 मॉडल 3 के उत्पादन का लक्ष्य रखा है।उपग्रहकीतस्वीरोंमेंउत्तरकोरियाकेसैन्यपरेडकीतैयारीकरनेकेसंकेतमिलेहरित हाइड्रोजन पहल पर दो दिन का सम्मेलन आयोजित करेगा भारत******हरित हाइड्रोजन पहल पर दो दिन का सम्मेलन आयोजित करेगा भारतनयी दिल्ली: भारत हरित हाइड्रोजन पहल पर दो दिन का शिखर सम्मेलन आयोजित करने जा रहा है। मंगलवार को शुरू हो रहे इस सम्मेलन में ब्रिक्स (ब्राजील,रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका) देश शामिल होंगे। सार्वजनिक क्षेत्र की एनटीपीसी के सहयोग से आयोजित इस सम्मेलन के जरिये भागीदारों को हरितहाइड्रोजन पहल के लिए मंच उपलब्ध कराया जाएगा। एनटीपीसी ने बयान में कहा कि सम्मेलन के जरिये इन देशों को यह भी जानने का अवसर मिलेगा कि कैसे वेइस पहल को अपने देश में अगले स्तर पर ले जा सकते हैं। यह ऑनलाइन आयोजन वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिये होगा और 23 जून को संपन्न होगा।बयान में कहा गया है कि दुनिया तेजी से समूची ऊर्जा प्रणाली को कॉर्बन मुक्त करने की दिशा में आगे बढ़ रही है। इसमें हाइड्रोजन महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकताहै। जब हाइड्रोजन का उत्पादन अक्षय ऊर्जा का इस्तेमाल कर इलेक्ट्रोलिसिस के जरिये किया जाता है, तो इसे हरित हाइड्रोजन कहा जाता है। इसमें कॉबर्न नहीं होता।बयान में कहा गया है कि ग्रीन हाइड्रोजन में बड़ी संख्या में एप्लिकेशन होता हैं। हरित रसायन मसलन अमोनिया और मेथानॉल का मौजूदा एप्लिकेशंस मसलनउर्वरक, मोबिलिटी, बिजली,रसायन और जहाजरानी में सीधे इस्तेमाल किया जा सकता है।

उपग्रह की तस्वीरों में उत्तर कोरिया के सैन्य परेड की तैयारी करने के संकेत मिले

उपग्रहकीतस्वीरोंमेंउत्तरकोरियाकेसैन्यपरेडकीतैयारीकरनेकेसंकेतमिले2020 के सूखे के बाद 2021 में ओलम्पिक में पोडियम हासिल करना चाहेंगी भारतीय हॉकी टीमें******नई दिल्ली| भारतीय पुरुष और महिला हॉकी टीम ने साल 2020 की शुरुआत ओलम्पिक में पदक जीतने के लक्ष्य के साथ की थी ताकि 40 साल से चले आ रहे ओलम्पिक पदक के सूखे को खत्म किया जा सके, लेकिन कोविड-19 के कारण खेलों का महाकुंभ स्थगित हो गया जो अब 2021 में होना है। भारत ने हॉकी में आखिरी स्वर्ण पदक मास्को 1980 ओलम्पिक में जीता था। इसके बाद भारतीय पुरुष टीम ने आठ ओलम्पिक खेले लेकिन पोडियम हासिल नहीं किया। रियो ओलम्पिक-2016 में भारतीय टीम आठवें स्थान पर रही थी।इस साल अंतर्राष्ट्रीय महासंघ (एफआईएच) रैकिंग में भारतीय पुरुष टीम ने चौथा स्थान हासिल किया था और वह साल का अंत भी इसी स्थान पर रहते हुए कर रही है।कोविड-19 के कारण हॉकी गतिविधियां रुकने से पहले भारतीय टीम ने एफआईएच प्रो हॉकी में पहली बार शिरकत की थी और विश्व की बेहतरीन टीमों के साथ छह मैच खेले थे जिसमें विश्व चैम्पियन बेल्जियम, ओलम्पिक रजत पदक विजेता नीदरलैंड्स और आस्ट्रेलिया के खिलाफ भारत ने दो-दो मैच खेले थे।नीदरलैंडस के खिलाफ भारतीय टीम ने पहले मैच में 5-2 से जीत हासिल की थी और दूसरे मैच में 3-3 से मैच ड्रॉ रहा था। बेल्जियम के खिलाफ भारत ने पहला मैच 2-1 से जीता था लेकिन दूसरा मैच 3-4 से हर गई थी। आस्ट्रेलिया के खिलाफ भारत को पहले मैच में 3-4 से हार मिली थी जबकि दूसरा मैच 2-2 से ड्रॉ रहा था।इसके बाद खिलाड़ी भारतीय खेल प्राधिकरण (साई) के बेंगलुरू स्थित केंद्र में बायो सिक्योर वातावरण में रहे थे। यहां अगस्त में तालाबंदी में छूट दिए जाने के बाद खिलाड़ियों ने अभ्यास किया था। इस दौरान हालांकि भारत के छह खिलाड़ी कोविड-19 से संक्रमित पाए गए थे। उनमें भारतीय पुरुष टीम के कप्तान मनप्रीत सिंह, सुरेंदर कुमार, जसकरण सिंह, वरुण कुमार, कृष्णा पाठक के नाम शामिल हैं।मनदीप ने अपने क्वारंटीन के अनुभव को लेकर कहा था, "हमने काफी पढ़ा सुना है कि यह वायरस काफी खतरनाक है। शुरुआती कुछ दिन दबाव वाले थे। मैं हालांकि एक पेशेवर हॉकी खिलाड़ी होने के नाते काफी मुश्किल मैच स्थितियों में रहा हूं, इसलिए मुझे ज्यादा दबाव महसूस नहीं हुआ।"प्रो लीग में भारत अपने अभियान की दोबारा शुरुआत 10 और 11 अप्रैल से घर से बाहर अर्जेंटीना के खिलाफ करेगी। इसके बाद वह आठ और नौ मई को ग्रेट ब्रिटेन के खिलाफ खेलेगी। इसके बाद स्पेन जाएगी जहां उसे 12 और 13 मई को मैच खेलने हैं। इसी महीने 18 और 19 मई को वह जर्मनी के खिलाफ खेलेगी और फिर 29 तथा 30 मई को भारत में न्यूजीलैंड का सामना करेगी।मनप्रीत ने कहा कि लगातार मैच खेलना ओलम्पिक से पहले टीम के लिए काफी अच्छे हैं।उन्होंने कहा, "अर्जेंटीना और ग्रेट ब्रिटेन के साथ होने वाले हमारे मैच में चार सप्ताह का गैप है, इसके बाद हम हर सप्ताह के अंत में लगातार मैच खेलेंगे। ओलम्पिक से पहले हम इसी तरह खेलने चाहते हैं।" उन्होंने कहा, "हम हमारे शरीर और दिमाग को परखना चाहते हैं और देखना चाहते हैं कि हम लगातार बड़े मैच कैसे खेलते हैं और दबाव कैसे झेलते हैं। यह ओलम्पिक से पहले हमारा अच्छा टेस्ट होगा।"वहीं, महिला टीम ने 2016 में दूसरी बार ओलम्पिक खेल था और 12वें स्थान पर रही थी। पिछले साल टीम ने ओलम्पिक के लिए क्वालीफाई किया था और टोक्यो में उनसे अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद थी, लेकिन ओलम्पिक स्थगित हो गए जो अब अगले साल 23 जुलाई से आठ अगस्त के बीच खेले जाएंगे।महिला टीम विश्व रैंकिंग में नौवें स्थान पर है। उन्होंने पहली बार 2018 में नौवां स्थान हासिल किया था जो उनकी सर्वोच्च रैंकिंग है।महिला टीम प्रो लीग में क्वालीफाई तो नहीं कर पाई। जनवरी में उन्होंने न्यूजीलैंड का दौरा किया जहां पांच प्रैक्टिस मैच खेले। रानी रामपाल की कप्तानी वाली भारतीय टीम ने न्यूजीलैंड डेवलपमेंट स्कावयड को 4-0 से हराया। इसके बाद वह न्यूजीलैंड की राष्ट्रीय टीम से दो मैच हार गई। इसके बाद भारत ने ग्रेट ब्रिटेन को 1-0 से हराया। दौरे के आखिरी मैच में भारत ने न्यूजीलैंड को 3-0 से हरा दिया।इस दौरे के बाद पुरुष टीम की तरह ही महिला टीम ने भी बेंगलुरू स्थित साई केंद्र में राष्ट्रीय शिविर में हिस्सा लिया और ओलम्पिक खेलों की तैयारी की।भारतीय महिला टीम ओलम्पिक में अपने अभियान की शुरुआत विश्व चैम्पियन नीदरलैंड्स के खिलाफ करेगी। हालांकि हालिया दौर में भारतीय टीम ने किसी बड़े टूर्नामेंट में नीदरलैंड्स का सामना नहीं किया है, लेकिन वो जानती है कि डच टीम कैसा खेलती है। टीम मुख्य कोच शुअर्ड मरेन और एनलिटिकल कोच जैनेके स्कोपमैन नीदरलैंड्स से ही हैं इसलिए दोनों टीम की खेलने की शैली से वाकिफ हैं।टीम की उप-कप्तान सविता ने कहा, "हमने हालिया दौर में नीदरलैंड्स के खिलाफ नहीं खेला है, लेकिन हमने उनके मैच करीब से देखे हैं। टीम कैसे खेलती है इस बारे में हम कोच मरेन और जैनेके से बात करेंगे।" उन्होंने कहा, "चूंकि दोनों कोच नीदरलैंड्स से ही हैं, उन्हें पता है कि टीम कैसे खेलती है। इसमें कोई शक नहीं है कि वह आक्रामक टीम है और तकनीकी तौर पर बेहद मजबूत। ओलम्पिक में हमारा पहला मैच काफी चुनौतीपूर्ण रहेगा।"उपग्रहकीतस्वीरोंमेंउत्तरकोरियाकेसैन्यपरेडकीतैयारीकरनेकेसंकेतमिलेमुनाफे के लिये काम न करने वाले अस्पतालों को दान पर 100 प्रतिशत आयकर की छूट हो: नीति आयोग******जनहित में काम करने वाले अस्पतालों को राहत संभवनई दिल्ली। नीति आयोग ने देश में स्वास्थ्य सेवाओं को मजबूत करने के लिए जनहित को सर्वोपरि रखते हुये मुनाफे के लिये काम न करने वाले (नॉट-फॉर-प्रॉफिट) अस्पतालों को दिये जाने वाले दान पर 100 प्रतिशत आयकर छूट और कम ब्याज दर पर कार्यशील पूंजी उपलब्ध कराने का सुझाव दिया है। आयोग ने मंगलवार को ‘नॉट-फॉर प्रॉफिट हॉस्पिटल मॉडल इन इंडिया’ विषय पर रिपोर्ट में प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों के प्रबंधन, सरकारी सुविधाओं के परिचालन तथा पीएसयू अस्पतालों में उच्च प्रदर्शन करने वाले सार्वजनिक-निजी भागीदारी वाले अस्पतालों को शामिल करने की वकालत की।रिपोर्ट में कहा गया है कि मान्यता प्राप्त मुनाफे के लिये काम न करने वाले अस्पतालों को दान या परमार्थ कार्य पर आयकर छूट की सीमा को 50 से बढ़ाकर 100 प्रतिशत किया जाना चाहिए। इससे अस्पतालों को अपनी जरूरत के लिए कोष मिल सकेगा। रिपोर्ट में कहा गया है कि सरकार को जनहित में काम करने वाले ऐसे अस्पतालों को कम ब्याज दर पर कार्यशील पूंजी ऋण उपलब्ध कराने के प्रावधान पर विचार करना चाहिए। इससे जरूरत के समय इन अस्पतालों के पास पर्याप्त नकदी प्रवाह सुनिश्चित हो सकेगा। रिपोर्ट में इस बात का भी जिक्र किया गया है कि सरकारी योजना के लाभार्थियों के इलाज पर ऐसे अस्पतालों को भुगतान पाने में लंबा इंतजार करना पड़ता है। ‘‘यदि इन अस्पतालों को समय पर भुगतान जारी हो जाए, तो उन्हें अपने परिचालन के लिए समय पर कार्यशील पूंजी उपलब्ध हो सकेगी।’’ नीति आयोग ने सुपर-स्पेशियल्टीज को दूरदराज के क्षेत्रों में काम करने को प्रोत्साहित करने को तंत्र विकसित करने की भी वकालत की।रिपोर्ट में नॉट-फॉर-प्रॉफिट अस्पतालों के प्रदर्शन का इंडेक्स बनाने पर भी जोर दिया गया है। इसके अलावा ऐसे अस्पतालों का राष्ट्रीय स्तर का पोर्टल या डायरेक्टरी बनाने का भी सुझाव दिया गया है। बयान में कहा गया है कि मुनाफे के लिए काम करने वाले स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं के बारे में पर्याप्त सूचना उपलब्ध है, लेकिन मुनाफा कमाने के लिये काम नहीं करने वाले एक प्रकार के निस्वार्थ सेवा देने वाले ‘नॉट फॉर प्रॉफिट’ अस्पतालों के बारे में विश्वसनीय सूचनाओं का अभाव है।यह भी पढ़ें:उपग्रहकीतस्वीरोंमेंउत्तरकोरियाकेसैन्यपरेडकीतैयारीकरनेकेसंकेतमिलेपश्चिम बंगाल में 3 विधानसभा सीटों पर मतगणना जारी, निगाहें भवानीपुर सीट पर****** पश्चिम बंगाल में सीट पर हुए उपचुनाव के लिए मतों की गिनती रविवार को कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच सुबह आठ बजे से शुरू हो गई है, साथ ही जंगीपुर और समसेरगंज विधानसभा सीटों पर हुए उपचुनाव के लिए भी मतगणना शुरू हो गई है। इस संबंध में एक अधिकारी ने यह जानकारी दी। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी इस साल की शुरुआत में हुए विधानसभा चुनाव में नंदीग्राम से चुनाव हार गई थीं। दक्षिण कोलकाता में भवानीपुर सीट पर उपचुनाव में ममता बनर्जी का मुकाबला भाजपा की प्रियंका टिबरेवाल से है। मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बने रहने के वास्ते उन्हें विधानसभा के लिए निर्वाचित होना होगा।निर्वाचन आयोग ने भवानीपुर के सखावत मेमोरियल कन्या उच्च विद्यालय में बने मतगणना केंद्र पर त्रिस्तरीय सुरक्षा के इंतजाम किए हैं, जहां केंद्रीय बलों की 24 कंपनियां भी तैनात की गई हैं। इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) स्ट्रांग रूम में आठ सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं और नतीजे 21 चरण की मतगणना के बाद घोषित किए जाएंगे। तीनों निर्वाचन क्षेत्रों में मतगणना केंद्रों के 200 मीटर के दायरे में दंड प्रक्रिया संहिता (सीआरपीसी) की धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा लागू कर दी गई है। इन सीटों पर 30 सितंबर को मतदान हुआ था।निर्वाचन आयोग के अधिकारी ने कहा कि उम्मीदवार और उनके एजेंट जिन्होंने कोविड​​-19 रोधी टीकों की दोनों खुराक ली है या जांच में संक्रमण की पुष्टि नहीं है, उन्हें मतगणना स्थलों में प्रवेश करने की अनुमति दी जाएगी। उन्होंने कहा कि सभी अधिकारियों और एजेंटों को कोविड​​-19 प्रोटोकॉल का पालन करने को कहा गया है। दक्षिण कोलकाता के भवानीपुर से विधानसभा चुनाव जीतने वाले राज्य के मंत्री शोभनदेब चट्टोपाध्याय ने मई में परिणाम घोषित होने के तुरंत बाद सीट खाली कर दी थी, जिससे उपचुनाव का मार्ग प्रशस्त हो गया ताकि बनर्जी यहां से चुनाव लड़ सकें। मुर्शिदाबाद जिले के जंगीपुर और समसेरगंज में एक-एक उम्मीदवार की मौत के बाद मतदान स्थगित कर दिया गया था।भवानीपुर में 57 फीसदी से ज्यादा मतदान हुआ। समसेरगंज और जंगीपुर में क्रमशः 79.92 प्रतिशत और 77.63 प्रतिशत मतदान हुआ।

उपग्रह की तस्वीरों में उत्तर कोरिया के सैन्य परेड की तैयारी करने के संकेत मिले

उपग्रहकीतस्वीरोंमेंउत्तरकोरियाकेसैन्यपरेडकीतैयारीकरनेकेसंकेतमिलेसंसद के दोनों सदनों की कार्यवाही 14 मार्च तक स्थगित, बजट सत्र का पहला चरण सम्पन्न****** लोकसभा और की कार्यवाही शुक्रवार को आगामी14 मार्च तक के लिए स्थगित कर दी गई और इस तरह दोनों सदनों में बजट सत्र का पहला चरण सम्पन्न हो गया। लोकसभा की अगली बैठक अब 14 मार्च को शाम चार बजे और उच्च सदन की अगली बैठक इसी दिन सुबह 10 बजे शुरू होगी। लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने सदन में सुचारू कामकाज के लिए सदस्यों का आभार व्यक्त किया और बताया कि इस दौरान कार्य उत्पादकता 121 प्रतिशत रही। राज्यसभा के उपसभापति हरिवंश ने भी बजट सत्र के पहले चरण में उच्च सदन में जिस तरह से कामकाज हुआ, उसे लेकर सभापति एम वेंकैया नायडू और अपनी तरफ से प्रसन्नता जतायी।लोकसभा अध्यक्ष ने बजट सत्र के पहले चरण में हुए कामकाज का उल्लेख करते हुए शुक्रवार को कहा, ‘‘सदन में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर चर्चा के लिए आवंटित 12 घंटे के समय के स्थान पर 15 घंटे 13 मिनट चर्चा हुई जिसमें 60 सदस्यों ने भाग लिया। 60 अन्य सदस्यों ने अपने लिखित भाषण सभा पटल पर रखे।’’ उन्होंने कहा कि इसी प्रकार, आम बजट पर सामान्य चर्चा के लिए आवंटित 12 घंटे के स्थान पर कुल 15 घंटे 33 मिनट चर्चा हुई जिसमें 81 सदस्यों ने भाग लिया और 63 अन्य सदस्यों ने अपने लिखित भाषण सभा पटल पर रखे।बिरला ने बजट सत्र के प्रथम चरण में सभी सदस्यों की सक्रिय भागीदारी और सकारात्मक सहयोग को रेखांकित करते हुए कहा, ‘‘कोरोना संक्रमण की चुनौतियों के बावजूद सांसदों ने सदन में देर रात तक कार्य करते हुए अपने संवैधानिक दायित्वों को प्रतिबद्धता के साथ निभाया, जिससे हम 121 प्रतिशत की उच्च कार्य उत्पादकता प्राप्त कर सके।’’ उन्होंने कहा कि इस दौरान सभी सदस्यों ने सदन को संचालित करने में अपना सकारात्मक सहयोग दिया तथा सभी विषयों पर व्यापक चर्चा-संवाद हुआ।बिरला ने सदस्यों से कहा, ‘‘यह परम्परा हमारे लोकतंत्र को सशक्त बनाती है। ऐसे समृद्ध संवाद से हमारी संसदीय प्रणाली भी और मजबूत होती है। देश के नागरिकों का भी लोकतांत्रिक संस्थाओं में भरोसा और विश्वास बढ़ता है। इसके लिए मैं आप सभी माननीय सदस्यों को साधुवाद देता हूँ।’’ उन्होंने यह भी कहा, ‘‘मुझे आशा है कि आपका सकारात्मक सहयोग भविष्य में ऐसे ही मिलता रहेगा।’’राज्यसभा में उपसभापति हरिवंश ने कहा कि इस दौरान एक बार भी ऐसा मौका नहीं आया जब सदन को (व्यवधान और शोरगुल की) विवशता के कारण स्थगित करना पड़ा हो। उन्होंने कहा कि बजट सत्र के पहले चरण में उच्च सदन में निर्धारित समय से आधे घंटे अधिक कामकाज हुआ। हरिवंश ने कहा कि इसका श्रेय सदन के प्रत्येक सदस्य को जाता है। उन्होंने कहा कि इसके कारण सदस्य राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा में भाग ले सके। उन्होंने कहा कि बजट सत्र के पहले चरण में सदन में 51 तारांकित प्रश्न पूछे गए वहीं विशेष उल्लेख के जरिए करीब 50 मुद्दे एवं शून्यकाल में लोक महत्व के 71 मुद्दे उठाये गये। उपसभापति ने सदन के सभी वर्गों को सकारात्मक भावना के साथ कामकाज करने पर बधाई दी और उम्मीद जतायी कि आगे भी सदन इसी भावना के साथ काम करता रहेगा।उल्लेखनीय है कि संसद के बजट सत्र की शुरूआत 31 जनवरी को दोनों सदनों की संयुक्त बैठक में राष्ट्रपति के अभिभाषण के साथ हुई थी। उसी दिन दोनों सदन में आर्थिक समीक्षा पेश की गयी थी। एक फरवरी को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने वित्त वर्ष 2022-23 के लिए केंद्रीय बजट प्रस्तुत किया। दो फरवरी से दोनों सदनों में पहले राष्ट्रपति अभिभाषण और फिर आम बजट पर चर्चा की गई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सात फरवरी को लोकसभा में और आठ फरवरी को राज्यसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर पेश धन्यवाद प्रस्ताव पर हुई चर्चा का जवाब दिया था।वहीं, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बजट पर हुई चर्चा का जवाब बृहस्पतिवार को लोकसभा में और शुक्रवार को राज्यसभा में दिया। बजट सत्र का दूसरा चरण 14 मार्च से आठ अप्रैल तक चलने का कार्यक्रम है जिसमें अनुदान की मांगों, विनियोग विधेयक और वित्त विधेयक को पारित करने के साथ अन्य विधेयकों को लिया जा सकता है।(इनपुट- एजेंसी)उपग्रहकीतस्वीरोंमेंउत्तरकोरियाकेसैन्यपरेडकीतैयारीकरनेकेसंकेतमिलेChinese Manjha Death: जब तक बाइक रोकता तब तक कट चुकी थी युवक की गर्दन, चाइनीज मांझे से ढाई इंच का घाव हुआ, गई जान******Highlights अभी अगस्त का महीना शुरू भी नहीं हुआ है और ने अपना कहर बरपाना शुरू कर दिया है। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में चीइनीज मांझे (पतंग की डोरी) से एक युवक की दर्दनाक मौत हो गई। मामला नॉर्थ वेस्ट दिल्ली के हैदरपुर फ्लाई ओवर का है, जहां एक बाइक सवार युवक का गला चाइनीज मांझे (Chinese Manjha) से कट गया। 30 वर्षीय सुमीत रंगा सोमवार शाम को स्थित अपनी हार्डवेयर शॉप से घर के लिए रोहिणी जा रहा था। शाम को करीब साढ़े 6 बजे जब रिंग रोड हैदरपुर फ्लाईओवर पर पहुंचा तो उसी दौरान मांझा उसकी गर्दन में उलझ गया।वह जब तक अपनी बाइक को रोक पाता तब तक उनके शरीर से काफी खून बह चुका था। इस हादसे के बाद सुमित रोड पर तड़पता रहा। काफी देर बाद एक राहगीर ने हादसे की जानकारी पुलिस को दी, जिसके बाद उसे अस्पताल में भर्ती कराया। डॉक्टरों ने सुमित को मृत घोषित कर दिया। उसकी गर्दन में भी मांझे का टुकड़ा फंसा हुआ था। पुलिस ने मांझे के टुकड़े को जांच के लिए कब्जे लिया है। पुलिस ने लापरवाही से मौत की धारा में केस दर्ज कर लिया है।पुलिस उपायुक्त (उत्तर-पश्चिम) उषा रंगनानी ने कहा कि मौर्य एन्क्लेव पुलिस स्टेशन में एक व्यक्ति के बारे में कॉल आई थी, जो हैदरपुर फ्लाईओवर पर एक तार से घायल हो गया था। डीसीपी ने कहा, "घायल व्यक्ति को सरोज अस्पताल ले जाया गया जहां डॉक्टर ने उसे मृत घोषित कर दिया।" पुलिस ने कहा कि, उन्होंने भारतीय दंड संहिता की धारा 304 ए के तहत मामला दर्ज किया है और मामले की जांच जारी है।पूछताछ के दौरान सुमित के पिता ने बताया कि उसका बेटा सुमित बुराड़ी से अपनी मोटरसाइकिल से घर आ रहा था और जब वह हैदरपुर फ्लाईओवर पर पहुंचा तो एक तार उसके गले में फंस गया। उन्हें बेटे ने कॉल करके बताया कि मांझे से उसका गला कट गया है। उन्होंने कहा कि बेटा बोलने की स्थिति में नहीं था। जब हम हॉस्पिटल पहुंचे तो डॉक्टर ने कहा कि अब आपका बेटा इस दुनिया में नहीं रहा। सुमित रंगा अपने माता पिता के इकलौते बेटे थे।चाइनीज मांझा पतंग उड़ाने में इस्तेमाल होने वाला धागा है, हालांकि इसके निर्माता इसके ऊपर कांच की कोटिंग का इस्तेमाल करते हैं जो कई बार इंसानों और पक्षियों के लिए जानलेवा साबित होते हैं। दिल्ली सरकार ने 2017 में कांच की परत वाली मांझों के इस्तेमाल पर प्रतिबंध लगा दिया था। हर साल पतंग के इस मांझे की चपेट में आकर कई लोग घायल होते हैं और कईयों को अपनी जिंदगी से भी हाथ धोना पड़ता है।- मार्केट से चाइनीज मांझे की जगह सामान्य मांझा खरीदें। यह उतना ही पक्का होता है और बिल्कुल भी खतरनाक नहीं होता।- घर में चाइनीज मांझा है तो उसे बच्चों और अन्य लोगों से दूर रखें। उन्हें इसके नुकसान और खतरों से अवगत कराएं।- पतंग उड़ाते वक्त सावधानी रखें। सामान्य धागे के ऊपर भी कई बार कांच की कोटिंग होती है। यह आपको घायल कर सकता है।- पतंग के कहीं उलझने या टकराने पर खींचने की कोशिश ना करें। इससे आपके हाथ में चोट लग सकती है।

उपग्रह की तस्वीरों में उत्तर कोरिया के सैन्य परेड की तैयारी करने के संकेत मिले

उपग्रहकीतस्वीरोंमेंउत्तरकोरियाकेसैन्यपरेडकीतैयारीकरनेकेसंकेतमिलेबजट के अगले दिन महंगाई की पहली मार, आज से पेट्रोल 2.45 रुपए और डीजल 2.36 रुपए महंगा******वित्‍तमंत्री ने बजट भाषण के आखिरी 5 मिनट में पर नए सरचार्ज की घोषणा कर सभी को चौंका दिया था। बजट पेश होने के अगले ही दिन ये नई दरें लागू भी हो गई हैं। शनिवार को पेट्रोल की कीमतों में 2.45 रुपए की वृद्धि कर दी गई है। इस वृद्धि के बाद पेट्रोल की कीमत 72.96 रुपए प्रति लीटर हो गई है। वहीं डीजल की कीमत में आज 2.36 रुपए प्रति लीटर की बढ़ोत्‍तरी हो गई है। इस प्रकार दिल्‍ली में आज एक लीटर डीजल की कीमत 66.69 रुपए हो गई है। शुक्रवार को दिल्‍ली में एक लीटर पेट्रोल की कीमत 70.51 रुपए और मुंबई में 76.15 रुपए प्रति लीटर थी। वहीं दिल्‍ली में एक लीटर डीजल की कीमत 64.33 रुपए लीटर और मुंबई में 67.40 रुपए प्रति लीटर थी।वित्‍त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा बजट 2019-20 में ईंधन पर टैक्‍स बढ़ाने की घोषणा की थी। सीतारमण ने 28,000 करोड़ रुपए जुटाने के लिए पेट्रोल और डीजल पर विशेष अतिरिक्‍त उत्‍पाद शुल्‍क एक रुपए लीटर और आधारभूत संरचना उपकर एक-एक रुपए लीटर बढ़ाने की घोषणा की है। कल ही स्‍पष्‍ट हो गया था कि स्‍थानीय बिक्री कर या वैल्‍यू एडेड टैक्‍स (वैट), जो बेस प्राइज पर केंद्रीय उत्‍पाद शुल्‍क लगाए जाने के बाद लगाया जाता है, के बाद पेट्रोल की कीमत में 2.5 रुपए लीटर और डीजल की कीमत में 2.3 रुपए प्रति लीटर की वृद्धि होगी।वर्तमान में कच्‍चे तेल पर अभी कोई आयात शुल्‍क नहीं लगता है। इस पर केवल प्रति टन 50 रुपए का राष्‍ट्रीय आपदा आस्‍मिक शुल्‍क (एसीसीडी) लिया जाता है। वर्तमान में पेट्रोल पर कुल उत्‍पाद शुल्‍क 17.98 रुपए प्रति लीटर (2.98 रुपए बेसिक उत्‍पाद शुल्‍क, 7 रुपए विशेष अतिरिक्‍त उत्‍पाद शुल्‍क और 8 रुपए रोड एंड इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर उपकर) है। इसी प्रकार डीजल पर कुल 13.83 रुपए प्रति लीटर का उत्‍पाद शुल्‍क (4.83 रुपए बेसिक उत्‍पाद शुल्‍क, 1 रुपए विशेष अतिरिक्‍त उत्‍पाद शुल्‍क और 8 रुपए रोड एंड इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर उपकर) है।इसके अलावा पेट्रोल-डीजल पर वैट लगाया जाता है, जो अलग-अलग राज्‍यों में अलग-अलग है। दिल्‍ली में, पेट्रोल पर वैट 27 प्रतिशत और डीजल पर 16.75 प्रतिशत है। मुंबई में पेट्रोल पर वैट 26 प्रतिशत व 7.12 रुपए प्रति लीटर अतिरिक्‍त कर है, जबकि डीजल पर 24 प्रतिशत का वैट है।

उपग्रहकीतस्वीरोंमेंउत्तरकोरियाकेसैन्यपरेडकीतैयारीकरनेकेसंकेतमिलेAFC Asian Cup 2019: एक नजर में जानिए एशियन कप में हिस्सा ले रही भारतीय टीम और सभी 23 खिलाड़ियों के बारे में******नई दिल्ली। मुख्य कोच स्टीफन कांस्टेनटाइन की देखरेख में भारतीय फुटबाल टीम पांच जनवरी से संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) में शुरू हो रहे एएफसी एशियन कप में खेलने के लिए तैयार है। ब्ल्यू टाइगर्स नाम से मशहूर भारतीय टीम चौथी बार और आठ साल के अंतराल के बाद एएफसी एशियन कप में हिस्सा ले रही है। भारत ने किर्गिज गणराज्य, म्यांमार और मकाउ के साथ हुए क्वालीफाइंग टूर्नामेंट के माध्यम से 24 टीमों की इस प्रतियोगिता के लिए स्थान सुरक्षित किया है। भारत को ग्रुप-ए में बहरीन, थाईलैंड और मेजबान यूएई के साथ रखा गया है। भारतीय टीम अपना पहला मैच छह जनवरी को अबू धाबी में थाईलैंड के खिलाफ खेलेगी।अखिल भारतीय फुटबाल महासंघ (एआईएफएफ) ने इस टूर्नामेंट के लिए 23 खिलाड़ियों को चुना है। इन 23 खिलाड़ियों में से 22 इंडियन सुपर लीग (आईएसएल) में खेलते हैं जबकि एक खिलाड़ी आई-लीग क्लब के लिए खेलता है।कांस्टेनटाइन के मार्गदर्शन में भारतीय टीम फीफा रैंकिंग में 170वें स्थान से टाप-100 में पहुंच गई है। साल 2015 के एशियन के लिए क्वालीफाई नहीं कर पाने के बाद भारत ने एशियन कप क्वालीफाईंग के लिए स्थान सुरक्षित किया। इस दौरान भारत ने लगातार 13 मैच जीते। अब जबकि भारतीय टीम एशियन कप के लिए तैयार है, आइए भारतीय टीम के सदस्यों पर एक नजर डालते हैं।गोलकीपर :क्लब-बेंगलुरू एफसीउम्र-26साल 2017 में नॉर्वे के क्लब स्टाबेक से हीरो इंडियन सुपर लीग (आईएसएल) का रुख करने के बाद के गुरप्रीत ने क्लब स्तर पर और राष्ट्रीय स्तर पर काफी अच्छा प्रदर्शन किया है। गुरप्रीत की लंबाई और अहम मौकों पर सटीक फैसला लेने का गुण उन्हें एक अच्छा गोलकीपर बनाता है।आईएसएल के दो सीजन में गुरप्रीत ने 30 मैच खेले हैं और सिर्फ 25 गोल खाए हैं। इस दौरान उन्होंने 76 गोल बचाए हैं। वह भारत के लिए 29 मैच खेल चुके हैं।क्लब-मुम्बई सिटी एफसीउम्र-25 सालअमरिंदर ने अपने फुटबाल करियर की शुरुआत एक स्ट्राइकर के तौर पर की थी लेकिन कोच ने उनकी गोलकीपिंग क्षमताओं को पहचाना। पंजाब में जन्मे अमरिंदर आईएसएल में मुम्बई सिटी एफसी के लिए खेलते हैं और इससे पहले, पुणे एफसी, एटीके और बेंगलुरू एफसी के लिए खेल चुके हैं।क्लब-पुणे सिटीउम्र-22विशाल कैथ ने एफसी पुणे सिटी के लिए खेलते हुए अपनी प्रतिभा को साबित किया है। कैथ ने आईएसएल करियर में 21 मैचों में सात क्लीन शीट हासिल किया है। वह 2018 के सैफ चैम्पियनशिप के लिए भारत के पसंदीदा गोलकीपर थे। वह सभी चार मैचों में खेले थे और दो क्लीन शीट हासिल की थी।डिफेंडर :क्लब-एटीकेपोजीशन-राइट बैकउर्म-25टाटा फुटबाल अकादमी (टीएफए) से निकले कोटाल ने बीते तीन साल में खुद को भारत के अग्रणी राइट बैक के रूप में स्थापित किया है। पश्चिम बंगाल निवासी कोटाल इससे पहले मोहन बागान, एफसी पुणे सिटी, दिल्ली डायनामोज और एटीके के लिए खेल चुके हैं। कोटाल डिफेंस में लेफ्ट साइड को भी सुरक्षित रखने की काबिलियत रखते हैं।क्लब- एफसी पुणे सिटीपोजीशन-राइट बैकउम्र -21राइट बैक पोजीशन पर खेलने वाले सार्थक को बिना रुके और बिना थके भागते रहने के लिए जाना जाता है। वह एक ऐसे पावरहाउस हैं, जो अटैक में भी भागीदारी दे सकते हैं और अग्रिम पंक्ति के अपने साथियों की मदद के लिए आगे आ सकते हैं। आईएसएल के बीते दो सीजन से वह पुणे सिटी के लिए खेल रहे हैं और 21 मैचों में क्लब के लिए उनके नाम एक गोल और चार एसिस्ट हैं।क्लब-केरला ब्लास्टर्सपोजीशन- सेंटर/राइट बैकउम्र -25चंडीगढ़ में जन्मे संदेश झिंगन हाल के वर्षो में देश तथा क्लब के लिए लगातार बेहतरीन प्रदर्शन करने वाले खिलाड़ियों में से एक रहे हैं। अब तक आईएसएल में वह केरल के लिए ही खेले हैं। वह क्लब के लिए 70 मैच खेल चुके हैं और इस दौरान चार एसिस्ट किए हैं। संदेश शारीरिक रूप से मजबूत लम्बे कद के डिफेंडर हैं और काफी अग्रेसिव तथा नो-नानसेंस अप्रोच रखते हैं। वह राइट बैक में भी खेल सकते हैं और इसी कारण वह भारतीय टीम के लिए काफी उपयोगी हैं।क्लब-केरला ब्लास्टर्सपोजीशन- सेंटरबैकउम्र-31केरल में फुटबाल के गढ़ माने जाने वाले मालापुरम के निवासी अनस को 2007 में पहली बार मुम्बई एफसी ने ब्रेक दिया था। साल 2015 में वह आईएसएल की टीम दिल्ली डायनामोज के साथ जुड़े। साल 2017 में वह प्लेअर ड्राफ्ट के तहत जमशेदपुर एफसी द्वारा चुने गए लिगन 2018-19 सीजन में वह अपने घर केरल का रुख करने में सफल रहे। अनस ने आईएसएल में कुल 37 मैच खेले हैं और एक गोल किया है। भारत के लिए अनस ने 15 मैच खेले हैं। संदेश झिंगन के साथ अच्छा तालमेल होने के कारण कोच स्टीफेन कांस्टेनटाइन ने उन्हें सेंटर बैक के तौर पर टीम में शामिल किया है।क्लब-ईस्ट बंगालपोजीशन- सेंटर बैकउम्र -23मणिपुर में जन्मे सलाम रंजन सिंह पुणे एफसी अकादमी की पैदावार हैं। आई-लीग के 2013-14 सीजन में उन्होंने पदार्पण किया। तीन साल वह पुणे के लिए खेले, जिसमें एक साल बेंगलुरू एफसी के साथ लोन पर आधारित टेन्योर शामिल है। अभी वह ईस्ट बंगाल के लिए खेल रहे हैं और राष्ट्रीय टीम में शामिल आई-लीग के एकमात्र खिलाड़ी हैं।क्लब-मुम्बई सिटी एफसीपोजीशन- लेफ्ट/सेंटर बैकउम्र-23सुभाशीष बोस पुणे एफसी यूथ अकादमी के उत्पाद हैं। साल 2016 में बोस ने आई-लीग में स्पोर्टिग क्लब दे गोवा के लिए खेलते हुए पेशेवर करियर का आगाज किया था। यह युवा खिलाड़ी मोहन बागान और बेंगलुरू एफसी के लिए खेल चुका है और अभी मुंबई सिटी एफसी के लिए खेल रहा है। कोलकाता में जन्मे बोस जरूरत पड़ने पर सेंटर बैक भी खेल सकते हैं लेकिन स्वाभिवक तौर पर वह लेफ्ट-बैक पोजीशन पर बेहतर खेलते हैं।क्लब-दिल्ली डायनामोजपोजीशन-लेफ्ट बैकउम्र -25 सालनारायण पश्चिम बंगाल निवासी हैं और टाटा फुटबाल अकादमी से निकले हैं। बाएं पैर के डिफेंडर ने अपने पेशेवर करियर के दौरान पेलियान एरोज, ईस्ट बंगाल, डेम्पो, एफसी पुणे सिटी और एएफसी गोवा जैसे प्रमुख क्लबो को सेवाएं देने के बाद दिल्ली का रुख किया। साल 2013 में वह पहली बार भारत के लिए खेले।मिडफील्डरक्लब-बेंगलुरू एफसीपोजीशन-राइट विंगउम्र-22 सालउदांता भी टाटा फुटबाल अकादमी से निकले हैं। वह स्पीडी विंगर हैं और काफी कलात्मक हैं। मणिपुर में जन्मे उदांता साल 2014 में बेंगलुरू एफसी में शामिल हुए और तब से लेकर आज तक वह इस क्लब के अहम सदस्य बने हुए हैं। इस सीजन आईएसएल में धीमी शुरूआत के बाद इस विंगर ने तीन गोल किए हैं।क्लब-नार्थईस्ट युनाइटेड एफसीपोजीशन-सेंट्रल/डिफेंसिव मिडफील्डरउम्र -26स्पोर्टिग क्लब दे गोवा के लिए खेलते हुए बोर्गेस ने अपनी चमक दिखाई और देश के टाप डिफेंसिव मिडफील्डर्स में से एक बनकर उभरे। स्पोर्टिग के लिए पांच सीजन खेलने के बाद गोवा निवासी बोर्गेस ने 2016 में नार्थईस्ट युनाइटेड एफसी का रुख किया और इस क्लब के अहम सदस्य बन गए। बोर्गेस एशियन कप क्वीलफिकेशन अभियान में भारत के अहम किरदार थे और मकाउ पर मिली जीत में गोल भी किया था। आईएसएल में वह इस सीजन अब तक 12 मैचे में दो गोल और दो एसिस्ट दे चुक हैं।क्लब-चेन्नइयन एफसीपोजीशन-सेंट्रल मिडफील्डरउम्र-20 सालदेहरादून में जन्मे अनिरुद्ध थापा 2016 में चेन्नइयन एफसी के लिए खेलते हुए भारतीय फुटबाल में आए। बाद में वह लोन पर मिनर्वा पंजाब के लिए भी खेले लेकिन बाद में चेन्नई लौटकर इस टीम के अहम सदस्य बन गए। उनका विजन और पासिंग रेंज उन्हें भारत का ट्रम्प कार्ड बनाता है। वह भारत के लिए अटैकिंग मिडफील्डर के तौर पर भी खेल सकते हैं। वह आईएसएल में 29 मैचों में दो गोल और तीन एसिस्ट दे चुके हैं। वह भारत के लिए 13 मैच खेले हैं।क्लब-दिल्ली डायनामोजपोजीशन-सेंट्रल मिडफील्डरउम्र-21 सालअसम में जन्मे विनीत देश के सबसे अच्छे मिडफील्डरों में से एक हैं। आईएसएल में वह पहली बार 2016 में केरल के लिए खेले और फिर दिल्ली का रुख किया। तकनीकी रूप से मजबूत विनीत मिडफील्ड में गेम के टेम्पो को कंट्रोल कर सकते हैं। हाल ही बांग्लादेश में समाप्त 2018 सैफ चैम्पियनशिप में विनीत ने सराहनीय प्रदर्शन किया था।क्लब-केरला ब्लास्टर्सपोजीशन- लेफ्ट/राइट विंगरउम्र -24 सालनारजारे एक प्रतिभाशाली विंगर हैं, जो दोनों फ्लैंक से बराबर क्षमता के साथ खेल सकते हैं। इस खिलाड़ी ने अपना पेशेवर करियर इंडियन एरोज के साथ 2014 में शुरू किया था और बाद में एफसी गोवा से जुड़ गए। साल 2015 में वह गोवा से नार्थईस्ट युनाइटेड एफसी गए और फिर तीन सीजन तक इस क्लब के लिए खेले। अभी वह केरल के साथ हैं और आईएसएल में कुल 43 मैच खेल चुके हैं। उनके नाम पांच गोल और एक एसिस्ट है। साल 2015 में वह पहली बार भारत के लिए खेले और 23 मैचों में एक गोल कर चुके हैं।क्लब-एफसी पुणे सिटीपोजीशन-विंगरउम्र-22 सालकुरिनियन भारतीय टीम में शामिल उन चुनिंदा खिलाड़ी में से एक हैं, जो यूरोप में विलारियल क्लब की सी टीम के साथ प्रशिक्षण कर चुके हैं। इसके बाद से 22 वर्षीय इस खिलाड़ी ने खुद को भारतीय राष्ट्रीय टीम के प्रमुख चेहरे के रूप में स्थापित किया है। 2018 में वह चीनी ताइपे के खिलाफ इंटरकांटिनेंटल कप में भारत के लिए पहली बार खेले।क्लब : चेन्नइयन एफसीपोजीशन : मिडफील्डरउम्र : 22जर्मनप्रीत सिंह टाटा फुटबाल अकादमी से निकले हैं। 2017-18 सत्र में चेन्नइयन की तरफ से खेलते हुए वह चमके और जॉन ग्रेगोरी की टीम का अहम हिस्सा बन गए जिसने ट्रॉफी अपने नाम की। यह मिडफील्डर अपनी पासिंग क्षमता से चीजों को सामान्य रखता है और हमेशा मेहनत के लिए तैयार रहता है। वह विपक्षी टीम के खिलाड़ियों के बीच के गैप को आसानी से भांपते हैं। भारत के लिए उन्होंने तीन मैच खेले हैं।क्लब : एफसी गोवापोजीशन : विंगरउम्र : 26 सालजैकीचंद आई-लीग में बेहतरीन प्रदर्शन करने वाली रॉयल वाहिंगदोह की टीम का अहम हिस्सा थे। इसके बाद मणिपुर में जन्मा यह खिलाड़ी कई क्लबों में खेला और इस समय एफसी गोवा में है। सर्जियो लोबेरा के मार्गदर्शन में यह खिलाड़ी अपने आप में लगातार सुधार कर रहा है। उनके नाम इस सीजन में दो गोल और इतने ही एसिस्ट हैं।यह विंगर स्टीफन कांस्टेनटाइन की टीम का 2015 से अहम हिस्सा हैं। वह यूएई में अपनी शानदार फॉर्म को जारी रखना चाहेंगे।क्लब : एटीकेपोजीशन : सेंट्रल डिफेंसिव मिडफील्डरउम्र : 25मिडफील्डर प्रणॉय हल्दर ने हालिया वर्षो में भारतीय टीम में मिडफील्ड को अपने जिम्मे उठा लिया है। उनकी फुटबाल को लेकर एप्रोच की कई फुटबाल पंडितों ने तारीफ की है। एफसी गोवा और मुंबई सिटी से खेलने के बाद प्रणॉय एटीके पहुंचे वह 2018-19 सीजन में स्टीव कोपेल की आक्रामक मिडफील्ड का अहम हिस्सा हैं। उन्होंने अनिरुद्ध थापा के साथ मिलकर मजबूत साझेदारी बनाई है। एशियन कप में विपक्षी टीम के अटैक को तोड़ने में वह अहम भूमिका निभाएंगे। भारत के लिए उन्होंने 11 मैच खेले हैं जिसमें से एक में गोल किया है।फॉरवर्ड:क्लब : बेंगलुरु एफसीपोजीशन : सेंटर फॉरवर्डउम्र : 34राष्ट्रीय टीम के चमकदार खिलाड़ी छेत्री को किसी परिचय की जरूरत नहीं है। वह टीम की लंबे समय से सेवा कर रहे हैं। छेत्री ने भारत के लिए सबसे ज्यादा गोल किए हैं। वह किसी भी पल विपक्षी टीम को छकाने का माद्दा रखते हैं। छेत्री उम्र के साथ और बेहतर होते जा रहे और एक पूर्ण सेंटर फॉरवर्ड खिलाड़ी बनकर उभरे हैं। दिल्ली में पैदा होने वाले इस खिलाड़ी ने कोलकाता के दोनों दिग्गज क्लबों से खेला है। साथ ही वह स्पोर्टिग लिस्बन बी और मेजर लीग सोकर (एमएलएस) के लिए खेल चुके हैं। इसके बाद उन्होंने बेंगलुरू का रुख किया।क्लब : चेन्नइयन एफसीपोजीशन : स्ट्राइकरउम्र : 27जेजे अपने मूव को शानदार तरीके से अंजाम तक पहुंचाने में माहिर हैं। वह गोल के सामने स्कोर करने को लेकर माहिर हैं। पुणे एफसी के साथ शुरुआत करने वाले मिजोरम में पैदा हुआ यह स्ट्राइकर अपनी प्रतिबद्धता और जुनून के लिए जाना जाता है। वह 2014 में चेन्नइयन के साथ आए और तभी से आईएसएल के सभी सीजन चेन्नइयन के साथ खेले।क्लब : जमशेदपुर एफसीपोजीशन : सेंटर फॉरवर्डउम्र : 24चंडीगढ़ फुटबाल अकादमी से निकलने वाले सुमित ने राष्ट्रीय टीम के लिए पहला मैच 2016 में एशियन कप क्वालीफायर मैचों में खेला था। इसके बाद वह जमशेदपुर पहुंचे और आईएसएल के इस सीजन में दो गोल कर चुके हैं। वह मेहनती सेंटर फॉरवर्ड खिलाड़ी हैं। वह अपने खेल को रोकना, उसमें तेजी लाना और अच्छे मूव करना जानते हैं।क्लब : एटीकेपोजीशन : सेंटर फॉरवर्ड, लेफ्ट विंगहोशिरपुर में पैदा होने वाला यह खिलाड़ी विपक्षी टीम के लिए बहुत बड़ा खतरा है। जेसीटी से निकल कर आने वाला यह खिलाड़ी कई बड़े क्लबों के लिए खेल चुका है जिनमें सल्गावकर, चर्चचिल ब्रदर्स और मोहन बागान के नाम शामिल हैं।​भारत के लिए पदार्पण करने के लिए उन्हें लंबा इंतजार करना पड़ा, लेकिन बलवंत को जब मौका मिला उन्होंने उसे भुनाया और अपने पहले मैच में मौरिशियस के खिलाफ गोल किए। इसके बाद से उनके खेल में सुधार आता गया और अब वह कांस्टेनटाइन की टीम का अहम हिस्सा हैं।उपग्रहकीतस्वीरोंमेंउत्तरकोरियाकेसैन्यपरेडकीतैयारीकरनेकेसंकेतमिलेBSNL ने पेश किया धमाकेदार ऑफर, 444 रुपए में प्रतिदिन 4GB डेटा****** निजी टेलिकॉम कंपनियों को चुनौती देने के लिए सरकार कंपनी BSNL ने धमाकेदार ऑफर पेश किया है। इस ऑफर के तहत BSNL ने तीन महीनों के लिए 444 रुपए का पैक पेश किया है। इसके तहत यूजर्स को प्रति दिन 4 जीबी इंटरनेट डेटा प्रदान किया जाएगा। खासबात यह है कि यह ऑफर देश भर के BSNL कस्‍टमर्स के लिए लागू होगा। कंपनी इसके तहत ग्राहकों को 3 जी डेटा उपलब्‍ध कराएगी।

उपग्रहकीतस्वीरोंमेंउत्तरकोरियाकेसैन्यपरेडकीतैयारीकरनेकेसंकेतमिलेएशेज में इंग्लैंड की शर्मनाक हार की गाज अब ग्राहम थोर्प पर गिरी, सहायक कोच के पद से बर्खास्त******Highlightsलंदन।एशेज में इंग्लैंड की करारी हार के बाद अब गाज गिरने का सिलसिला शुरू हो गया है।इंग्लैंड के मुख्य कोच क्रिस सिल्वरवुड और क्रिकेट निदेशक एशले जाइल्स के बाद अब ये गाज सहायक कोचग्राहम थोर्प पर गिरी है। ग्राहम थोर्प कोसहायक कोच के पद से बर्खास्त कर दिया गया है।इंग्लैंड एवं वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) ने एक बयान में कहा, ‘‘ग्राहम थोर्प ने इंग्लैंड के पुरुष सहायक कोच के रूप में अपना पद छोड़ दिया है।’’ इंग्लैंड के मुख्य कोच क्रिस सिल्वरवुड और क्रिकेट निदेशक एशले जाइल्स पहले ही अपने से हट चुके है। ऑस्ट्रेलिया से 0-4 से हारने के बाद वह टीम के तीसरे सहयोगी सदस्य है। ईसीबी से जारी बयान में थोर्प ने कहा, ‘‘ मैं बहुत भाग्यशाली रहा हूं कि इतने अच्छे खिलाड़ियों और कोच के साथ काम किया है । मैं इन्हें जीवन भर अपना दोस्त मानता हूं।’’जाइल्स के स्थान पर बुधवार को अंतरिम प्रबंध निदेशक नियुक्त किए गए एंड्रयू स्ट्रॉस ने कहा, ‘‘ मैं इंग्लैंड के कोचिंग सहयोगी के तौर पर कई वर्षों तक काम करने के लिए ग्राहम को धन्यवाद और भविष्य के लिए शुभकामनाएं देता हूं।’’टेस्ट कप्तान जो रूट की आलोचना के बाद भी स्ट्रॉस ने उनका समर्थन करते हुए ‘ईएसपीएनक्रिकइंफो’ से कहा, ‘‘ जो (रूट) से बात करने के बाद यह बिल्कुल स्पष्ट है कि इस टीम को आगे ले जाने की उनकी प्रतिबद्धता में कोई कमी नहीं है।’’उपग्रहकीतस्वीरोंमेंउत्तरकोरियाकेसैन्यपरेडकीतैयारीकरनेकेसंकेतमिलेमारुति ने इग्निस का 2019 संस्करण पेश किया, कीमत है इसकी 4.79 लाख रुपए से शुरू******New Maruti Ignis 2019 मारुति सुजुकी इंडिया ने बुधवार को उन्‍नत सुरक्षा फीचर्स के साथ अपनी हैचबैक कार का 2019 संस्करण पेश किया। इसकी दिल्‍ली में एक्‍स-शोरूम कीमत 4.79 लाख रुपए से लेकर 7.14 लाख रुपए तक है। मारुति सुजुकी इंडिया ने अपने एक बयान में कहा कि नई इग्निस के सभी वेरिएंट्स ड्राइवर के साथ वाली सीट में सीट बेल्ट रिमाइंडर और हाई स्पीड अलर्ट प्रणाली, रिवर्स पार्किंग प्रणाली समेत अन्य खूबियों से लैस होंगे। नए सुरक्षा नियमों के तहत , इस साल एक जुलाई से बनने वाली सभी यात्री वाहनों के लिए ये सुविधाएं अनिवार्य होंगी।नए सुरक्षा नियमों के तहत यह फीचर्स इस साल 1 जुलाई के बाद से निर्मित होने वाले सभी यात्री वाहनों के लिए अनिवार्य होंगे।मारुति सुजुकी इंडिया के वरिष्ठ कार्यकारी निदेशक (विपणन एवं बिक्री) आर एस कलसी ने कहा कि यात्री सुरक्षा की दिशा में एक और कदम बढ़ाते हुए इग्निस में ज्यादा सुरक्षा फीचर्स दिए गए हैं। उन्होंने कहा कि इग्निस के जेटा और अल्फा संस्करण में अब नए रूफ रेल्स की पेशकश की जा रही है।

उपग्रहकीतस्वीरोंमेंउत्तरकोरियाकेसैन्यपरेडकीतैयारीकरनेकेसंकेतमिलेIPL 2022: सनराइजर्स के खिलाफ मिली हार के बाद मुंबई के कप्तान रोहित शर्मा ने बताया कहां हुई टीम से चूक******इंडियन प्रीमियर लीग 2022 के 65वें मैच में मुंबई इंडियंस को सनराइजर्स हैदराबाद के खिलाफ तीन रनों से करीबी हार का सामना करना पड़ा। सीजन-15 में मुंबई की टीम को 13 मैचों में से यह 10वीं हार थी। इस हार के साथ ही टीम के कप्तान रोहित शर्मा अपनी निराशा जाहिर करते हुए कहा कि हम पारी के 18वें तक मैच में थे लेकिन टिम डेविड के रनआउट से हम ने अपनी पकड़ खो दी।मैच के बाद कप्तान रोहित शर्मा ने कहा, ''हमारे लिए टिम डेविड का रन आउट होना काफी मुश्किल रहा। यह बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण था। हम मैच में वापसी कर चुके थे। आखिरी ओवर में 19 रन बनाए जा सकते हैं लेकिन मैं सनराइजर्स को इसका श्रेय देना चाहूंगा कि उन्होंने बेहतरीन खेल का प्रदर्शन किया।''उन्होंने कहा, ''हमारी कोशिश थी कि मैच में हम कुछ नया आजमाने की कोशिश करें। हम चाहते थे कि खिलाड़ी दबाव में गेंदबाजी करें लेकिन विरोधी टीम ने 193 रनों का स्कोर किया और ऐसा सिर्फ इसलिए हो पाया क्योंकि उन्होंने बल्लेबाजी में बेहतर किया। हालांकि हमने जिस तरह से मैच का अंत किया वह हमारे लिए अच्छा था। यह जरूर है कि हमने निरंतरता नहीं दिखाई लेकिन भविष्य के लिए हम इस पर विचार करेंगे।''आपको बता दें कि मुंबई की टीम ने मैच में टॉस जीतकर सनराइजर्स को पहले बल्लेबाजी का न्योता दिया था। सनराइजर्स की टीम ने बल्लेबाजी में बेहतरीन शुरुआत की। टीम ने राहुल त्रिपाठी और प्रियम गर्ग की दमदार बल्लेबाजी से निर्धारित 20 ओवरों के खेल में 6 विकेट के नुकसान पर 193 रन का स्कोर खड़ा किया।इसके जवाब में मुंबई इंडियंस ने 20 ओवर में 7 विकेट के नुकसान पर 190 रन ही बना सकी। मुंबई की तरफ से सबसे अधिक टिम डेविड ने 46 और ईशान किशन ने 43 रनों की पारी खेली।उपग्रहकीतस्वीरोंमेंउत्तरकोरियाकेसैन्यपरेडकीतैयारीकरनेकेसंकेतमिलेइंदिरा गांधी सरकार की मदद के बिना 9 महीने में बांग्लादेश की आजादी नामुमकिन थी: महमूद****** बांग्लादेश के सूचना प्रसारण मंत्री हसन महमूद ने मंगलवार को कहा कि इंदिरा गांधी, उनकी सरकार की मदद के बिना और भारत के लोगों के समर्थन के बिना बांग्लादेश 1971 में 9 महीने के अंदर स्वतंत्रता हासिल नहीं कर पाता। उन्होंने कहा कि बांग्लादेश उसके मुक्ति संग्राम में भारत के समर्थन के लिए हमेशा शुक्रगुजार रहेगा। महमूद ने 1971 में बांग्लादेश की आजादी का मजाक उड़ाने वाले पाकिस्तानियों पर भी निशाना साधा जिन्होंने इस देश के कमजोर भविष्य का संशय जताया था। उन्होंने कहा कि बांग्लादेश विकास के सभी मोर्चों पर पाकिस्तान से आगे है।महमूद ने आकाशवाणी की विदेश सेवा के तत्कालीन निदेशक और बाद में महानिदेशक बने दिवंगत यू. एल. बरुआ की पुस्तक ‘ए बांग्लादेश वार कमेंट्री: रेडियो डिस्पैचिस’ के विमोचन के मौके पर यह बात कही। देश की आजादी में भारत की भूमिका की सराहना करते हुए पड़ोसी देश के मंत्री ने कहा कि ‘भारत की मदद के बिना हमारे लिए अपने देश को 9 महीने के अंदर मुक्त कराना संभव नहीं होता।’ महमूद ने कहा कि भारत के लोगों ने बांग्लादेश के एक करोड़ लोगों को न केवल पड़ोस के राज्यों में बल्कि दूसरे प्रदेशों में भी शरण दी थी। उन्होंने कहा कि बांग्लादेश हमेशा भारत के लोगों और तत्कालीन भारत सरकार का हमेशा शुक्रगुजार रहेगा।महमूद ने कहा, ‘इंदिरा गांधी ने हमारे मुक्ति संग्राम के पक्ष में राय बनाने तथा बंगबंधु शेख मुजीबुर रहमान को पाकिस्तान की हिरासत से मुक्त कराने के लिए दुनिया के अनेक हिस्सों का दौरा किया।’ उन्होंने कहा कि की मदद के बिना, उनकी सरकार की मदद के बिना, भारत की जनता की मदद के बिना हमारे लिए 9 महीने के अंदर हमारे देश को आजाद कराना मुमकिन नहीं होता। के सूचना प्रसारण मंत्री ने कहा कि शेख मुजीबुर रहमान को मुक्त कराना कभी मुमकिन नहीं होता। महमूद भारत की आधिकारिक यात्रा पर हैं।

नवीनतम उत्तर (2)
2022-10-05 23:32
उद्धरण 1 इमारत
Noida Mall Murder Case: नोएडा के बार में जानिए क्या हुआ था उस रात, कैसे शुरू हुई मारपीट, CCTV फुटेज से खुलासा******नोएडा के लॉस्ट लेमंस बार में मर्डर के मामले में CCTV फुटेज से बड़ा खुलासा हुआ है। फुटेज में बृजेश से लड़ाई करते दिखे बार के बाउंसर और स्टाफ। बार से शुरू हुआ विवाद बार के बाहर मॉल तक पहुंचा था।सीसीटीवी फुटेज के अनुासर बृजेश और उसके दोस्त बार के बाहर आते हैं, बार का स्टाफ और मॉल के बाउंसर भी मौजूद हैं। बहसबाजी चालू है, इस दौरान बृजेश एक शख्स के गले मिलता भी दिखाई दे रहा है। सीसीटीवी के आखिरी कुछ सेकंड में देखें तो बृजेश मोबाइल से फोटो क्लिक करने की कोशिश करता है। इसी दौरान बाउंसर और स्टाफ मारपीट करने लगता है, बृजेश नीचे गिर जाता है। उसके बाद बृजेश के साथ मारपीट शुरू हो जाती है जिसके बाद बृजेश घायल हो जाता है और अस्पताल में उसकी मौत हो जाती है। बता दें की इस मामले में अब भी कई बाउंसर फरार हैं।गौरतलब है कि गार्डन गैलेरिया में बृजेश हत्याकांड में पुलिस ने एक और आरोपी रोहित तंवर घटना के बाद से फरार चल रहा था, उसे गिरफ्तार किया था। वह मॉल में बाउंसर का काम करता था। आरोप है कि बार और मॉल प्रबंधन से कोई भी शख्स बृजेश को इलाज के लिए भेजने के लिए भी आगे नहीं आया। पुलिस की टीम ने 10 घंटे से अधिक समय तक सीसीटीवी फुटेज खंगालने के बाद कार्रवाई की।
2022-10-05 21:59
उद्धरण 2 इमारत
Mother's Day 2022: करीना-तैमूर से रणबीर-नीतू तक, बॉलीवुड के इन मां-बेटों का रिश्ता है बेहद खास******Highlights हर साल मई के दूसरे रविवार को मदर्स डे के रूप में मनाया जाता है। वैसे तो हर दिन ही हम सब अपनी मां को प्यार करते हैं लेकिन मदर्स डे की बात ही अलग है। आम आदमी से लेकर बॉलीवुड सेलेब्स तक सभी के लिए ये दिन बेहद ही खास होता है। ऐसे में मदर्स डे के मौके पर आज हम आपको बॉलीवुड की बेहद खूबसूरत मां-बेटे की जोड़ी से मिलवाने जा रहे हैं जिनका रिश्ताबेहद खास है।इनमें से कुछ मां लाइमलाइट से दूर रहती है तो कुछ सुर्खियों में बनी रहती हैं। आइए एक नजर डालते हैं बॉलीवुड हस्तियों के बीच शेयर किए गएखूबसूरत मां-बेटोंके बंधन पर।ट्विंकल खन्ना न केवल एक बेस्ट लेखिका हैं, बल्कि अपने बेटे आरव की एक प्यारी मां भी हैं। एक्ट्रेस अपने बेटे आरव और बेटी नितारा के साथ एक खूबसूरत बंधन शेयर करती हैं। ट्विंकल एक शानदार हाउसवाइफ के साथ-साथ एक सुपर मॉम भी हैं, जो अपने काम और पारिवारिक जीवन के बीच संतुलन बनाकर चलती हैं।चाहे वे सेल्फी के लिए एक साथ पोज दे रहे हों या फिर एक दूसरे को हग कर रहे हो, करीना और उनके बेटे में वास्तव में सबसे अच्छे दोस्त हैं। बेबो अक्सर अपने बेटे तैमूर अली खान और जेह अली खान के साथ प्यारी तस्वीरें शेयर करती रहती हैं।एक्टर रणबीर कपूर और मां नीतू कपूर का रिश्ता बहुत ही खास है। अभिनेता अपनी प्रोफेशनल लाइफ से लेकर पर्सनल लाइफ तक अपनी मां से टिप्स लेते हैं। हाल ही में आलिया भट्ट के साथ शादी के बंधन में बंधने वाले अभिनेता अपने पिता और अभिनेता ऋषि कपूर केनिधन के बाद अपनी मां नीतू कपूर के साथ चट्टान की तरह खड़े दिखें।अमृता सिंह ने अपने पूर्व पति सैफ अली खान से तलाक के बाद भी अपने बच्चों सारा अली खान और इब्राहिम अली खान को एक बेहतर जीवन दिया है। जैसा कि सारा ने एक बार कहा था कि वह उनकी 'सबसे अच्छी दोस्त' हैं।मलाइका अरोड़ा अपने बेटे अरहान के साथ एक खास बॉन्ड शेयर करती हैं। ब्रंच डेट्स से लेकर मूवी नाइट्स तक, मां बेटे की जोड़ी को अक्सर एक साथ शानदार समय बिताते हुए देखा जाता है।सलमान खान अपनी मां सलमा और हेलेन के साथ एक प्यारा बंधन शेयर करते हैं। अभिनेता अपने बीजी शेड्यूल के बीच भी उनके साथ क्वालिटी टाइम बिताते हैं।
2022-10-05 21:43
उद्धरण 3 इमारत
EPFO Assistant Admit Card 2019: जल्द जारी होंगे EPFO असिस्टेंट प्रीलिम्स एग्जाम के एडमिट कार्ड, ऐसे करें चेक****** असिस्टेंट प्रीलिम्स एग्जाम के लिए एडमिट कार्ड ऑफिशियल वेबसाइट पर 20 जुलाई को जारी करेगा। 20 जुलाई को कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) एडमिट कार्ड जारी होने के बाद अभ्यर्थी विभाग की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर एडमिट कार्ड डाउनलोड कर सकेंगे. कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) असिस्टेंट प्रीलिम्स एग्जाम एडमिट कार्ड डाउनलोड करने से संबंधित पूरा स्टेप विभाग की ऑफिशियल वेबसाइट पर दिया गया है।कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) की तरफ से असिस्टेंट पदों पर भर्ती के लिए प्रीलिम्स परीक्षा 30 और 31 जुलाई को आयोजित की जाएगी। कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) द्वारा असिस्टेंट के पदों पर अभ्यर्थियों का चयन फेज-1 और फेज-2 लिखित परीक्षा के बाद किया जाएगा। कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) असिस्टेंट पदों पर चयन से संबंधित अधिक जानकारी अभ्यर्थी विभाग की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर प्राप्च तक सकते हैं।कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) की तरफ से इस भर्ती के जरिए असिस्टेंट के कुल 280 पदों पर नियुक्तियां की जाएंगी।ईपीएफओ असिस्टेंट फेज-1 की परीक्षा में ऑब्जेक्टिव टाइप के 100 प्रश्न पूछें जाएंगे. एक प्रश्न 1 नंबर का होगा और गलत उत्तर देने पर सही प्रश्न से 1/3 अंक काट लिया जाएगा।
वापसी